Biography of Bhupesh Baghel | जीवन परिचय

हेल्लो मैं प्रिंस साहू स्वागत करता हूं आप सभी का हमारे वेबसाइट में दोस्तों आज की पोस्ट मैं आप लोगों को छत्तीसगढ़ के नए चीफ मिनिस्टर  श्री भूपेश बघेल जी के जीवन परिचय (Bhupesh Baghel Biography) के बारे में बताऊंगा यदि आप चाहते हैं कि यह जानना कि हमारे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री का व्यक्तित्व कैसा है वह किस प्रकार का सोच रखते हैं और उनकी जीवन से संबंधित क्या-क्या महत्वपूर्ण घटनाएं हैं तो यह पोस्ट आप लोगों के लिए है दोस्तों अगर आप लोग इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़ेंगे तो आप लोग Bhupesh Baghel Biography को पूर्ण रूप से समझ जाएंगे तो चलिए दोस्तों स्टार्ट करते हैं.

Biography bhupesh baghel

Bhupesh Baghel Introduction

पूरा नाम (Full Name)भूपेश बघेल
जन्म तिथि (Date of Birth)23 अगस्त, 1961
जन्म स्थान (Birth Place)दुर्ग,मध्य प्रदेश
उम्र (Age)57
पेशा (Professions)भारतीय राजनेता
किस पार्टी के जुड़े हुए हैं कांग्रेस
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय
धर्म (Religion)हिंदू
पिता का नाम (Fathers Name)नंद कुमार बघेल
माता का नाम (Mothers Name)बिंदेश्वरी बघेल
पत्नी का नाम (Wife Name)मुक्तेश्वरी बघेल
निर्वाचन छेत्र (Constituency)पाटन

भूपेश बघेल जी का व्यक्तिगत जीवन (Personal Life)

Bhupesh Baghel का जन्म स्थान दुर्ग है जो कि पहले मध्य प्रदेश का हिस्सा हुआ करता था और अब यह स्थान छत्तीसगढ़ राज्य में आता है इनके पिता का नाम नंदकुमार और माता का नाम बिंदेश्वरी है जो कि किसानी किया करते थे सन् 1961 को जन्मे भूपेश की शादी मुक्तेश्वरी बघेल से हुआ था जो कि हिंदी के प्रसिद्ध लेखक नरेंद्र देव वर्मा की बेटी है तो इनके जो ससुर बघेल जी हैं नरेंद्र देव वर्मा जी प्रसिद्ध हिंदी लेखक हैं  और भूपेश बघेल जी के कुल 4 बच्चे भी हैं

भूपेश बघेल जी का राजनितिक करियर (Bhupesh Baghel Political Career)

Bhupesh Baghel  ने  राजनीतिक अपने गुरु चंदूलाल चंद्राकर से सीखी है

और यह सन 1985 में भारतीय युवा कांग्रेस से जुड़ गए थे तो उन्होंने लगभग 80 के दशक से अपना राजनीतिक जीवन शुरू कर दिया था 1961 में इनका जन्म हुआ था और 1985 में यह राजनीतिक से जुड़ गए बहुत ही कम उम्र में ही भूपेश बघेल ने राजनीति शुरू कर दिए थे भूपेश बघेल बचपन में पढ़ाई में ज्यादा ध्यान नहीं दिया करते थे इनका पढ़ाई में मन नहीं लगता था यह राजनीति के ओर उनका रुझान बचपन से ही था और कुछ समय बाद बघेल जी मध्य प्रदेश कांग्रेश के युवा शाखा के उपाध्यक्ष बन गए थे.
भूपेश बघेल ने अपना पहला चुनाव साल 1993 में मध्य प्रदेश असेंबली की पाटन सीट से लड़ा था हालांकि छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद यह विधानसभा क्षेत्र सीट तो जो था मध्य प्रदेश राज्य की जगह छत्तीसगढ़ राज्य के अंतर्गत आ गया था लेकिन जब 1993 में पहली बार लड़े उस समय छत्तीसगढ़ राज्य बना नहीं था और पाटन से लड़े थे वह मध्यप्रदेश का हिस्सा था और Bhupesh Baghel जीते भी थे, और उसके बाद वहां के विधायक भी बने थे मध्य प्रदेश में जब दिग्विजय सिंह की सरकार थी तो उस समय भूपेश बघेल जी कैबिनेट मंत्री बने थे.
और सन 2000 में छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी जी मुख्यमंत्री बने हुए थे उस समय भी भूपेश बघेल जी कैबिनेट मंत्री बने हुए थे, फिर सन 2003 में कांग्रेस के सत्ता से बाहर होने के बाद भूपेश बघेल जी को 2003 में विपक्ष का उपनेता बनाया था और 2004 में लोकसभा चुनाव में भूपेश जी को दुर्ग के उम्मीदवार बनाया था कांग्रेस पार्टी ने लेकिन भाजपा के तारा चंद्र साहू थे उन्होंने भूपेश जी को हरा दिया था और फिर अक्टूबर 2014 में बघेल जी को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया था और जब छत्तीसगढ़ में जो चुनाव हुआ विधानसभा का उसमें छत्तीसगढ़ से कांग्रेस पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर के उभरी तो उसमें 4 दावेदार थे मुख्यमंत्री पद के लिए उसमे से एक भूपेश बघेल जी भी थे और दूसरा टीएस सिंह देव जी तीसरा चरण दास महंत जी और चौथा ताम्रध्वज साहू जी इन चारों के बारे में आप लोगों को थोड़ा बता देता हूं भूपेश बघेल जी की दावेदारी इसलिए थी क्योंकि वह कांग्रेस को एकजुट किया था और अगर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में छत्तीसगढ़ में कांग्रेस आई उसमे बहुत बड़ा हाँथ था भूपेश बघेल जी का क्योंकि इन्होंने पिछले 5 साल तक कांग्रेस पार्टी को एक साथ जोड़ने में यहां के नेताओं को आगे बढ़ाने में मदद किया था मुख्यमंत्री नहीं बनने के लिए कुछ कमियां भी थी वैसे कमियां नहीं बोलेंगे इसे, CD कांठ में मामले में जेल भी गए थे इस कारण से इनका बहुत विरोध हो रहा था कुछ लोग इनके विरोध में थे जो नहीं चाहते थे कि मुख्यमंत्री बने साथ ही साथ यह बेबाक नेता है जो सही लगता है वह बोलते हैं और यह कभी नहीं सोचते हैं कि मेरे बोलने से किसी को बुरा लग रहा है अच्छा लग रहा है उसके बारे में सोचते हैं जो सही है उसके खिलाफ तुरंत का तुरंत निष्पक्ष भाव से बोल देते हैं.

टीएस सिंह देव जी जिन्हें बाबा के नाम से जानते हैं इन्हें भी मुख्यमंत्री बनाया जा सकता था यह पिछले 6 महीने से जनता को क्या-क्या चीज की जरूरत है उनकी जानकारी एक जुट की उसके हिसाब से छत्तीसगढ़ का घोषणा पत्र बनाया था कहा जाता था कि वह ट्रम्कार्ड साबित हुआ और इसी घोषणापत्र के कारण छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी जीती तो ये भी प्रबल दावेदार थे.

चरण दास महंत जी मिश्रा उदास मान जी के पुत्र हैं और इनका बैकग्राउंड भी बहुत अच्छा है और साथ ही साथ इनका राहुल गांधी जी से संपर्क ही बहुत अच्छा है बहुत पुराना संपर्क है और जो नवजोत सिंह सिद्धू जी ने इनके नाम का समर्थन भी दिया था तो चरणदास महंत भी छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बन सकते थे लेकिन उनका नाम हमेशा से पीछे गिरा था थर्ड नंबर पर ही रहा था.

ताम्रध्वज साहू जी यह खुद को मुख्यमंत्री नहीं बनाना चाहते थे यह पहले लोकसभा सांसद थे फिर इनको विधानसभा से चुनाव लड़ा और यह जीतेंगे तो इनका इच्छा नहीं था मुख्यमंत्री बनने का लेकिन फिर भी इनके नाम भी सामने आ रहा था

तो इन दो लोगों के बीच में टक्कर था एक भूपेश बघेल जी और एक टीएस सिंह देव जी के बीच में तो इनमें फाइनली भूपेस बघेल जी बाजी मारते हैं और यह छत्तीसगढ़ के नए सीएम बन गए हैं.

इसे भी पढ़े – Face of Chhattisgarh

तो दोस्तों अब आपको Bhupesh Baghel की Biography पता चला गया होगा और हम उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपको पसंद आया होगा, अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरुर करे, और इस पोस्ट Bhupesh Baghel Biography से संबंधित कुछ कहना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स आपका इंतेजार कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *